मूंग दाल और चावल डोसा – Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Recipe

Moong Dal Or Chawal Ka Dosa – डोसा एक स्वादिष्ट व्यंजन है, दक्षिण भारतीय व्यंजनों का एक बहुत बेहतरीन हिस्सा है। ये डोसा न केवल स्वादिष्ट होते हैं बल्कि कई स्वास्थ्य लाभों से भी भरपूर होते हैं।

मूंगदाल का दोसा आसान और जल्दी बनने वाला नाश्ता है | मूंगदाल का डोसा बनाने में समय भी कम लगता है, मूंगदाल को भीगकर तैयार होने में एक घंटा ही लगता है और इसके बैटर को फर्मेन्ट करने की जरूरत भी नहीं होती है | इस लेख में, हम आपको सिखाएंगे कि मूंग दाल और चावल डोसा कैसे बनाया जाता है और आपकी डोसा बनाने की जानकारी को बेहतर बनाने के लिए कुछ जरुरी पॉइंट्स बताएँगे|

Video दिखाये – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Recipe In Hindi)

moong Dal Or Chawal Ka Dosa

मूंग दाल और चावल डोसा – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Recipe In Hindi)

इस ब्लॉग में हम मूंग दाल और चावल डोसा रेसीपी के बारे में पढ़ेंगे, जिसमें सामग्री और विधि के बारे में पूरी जानकारी नीचे दी गयी है|

सामग्री – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Recipe In Hindi)

  • 1/2 कप मूंग दाल
  • 1/4 कप चावल
  • 2 टेबल स्पून हरा धनियां (बारीक कतरा हुआ)
  • नमक स्वादानुसार
  • 1 हरी मिर्च
  • तेल (दोसा सेकने के लिये)

विधि – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Recipe In Hindi)

डोसा को फरमेंट बनायें:

  1. छिलके वाली मूंग दाल को पानी में 3-4 घंटे के लिए भिगो दीजिये.
  2. चावल को साफ कीजिये, धोइये और अलग प्याले में उतने ही समय के लिये भिगो दीजिये.
  3. दाल को अच्छे से मसल कर इसके छिलके उतार लीजिए,
  4. दाल और चावल से पानी निकालिये और हल्का दरदरा पीस लीजिए,
  5. इसमें हरी मिर्च और आवश्यकतानुसार पानी डालकर पीस लें
  6. मिश्रण को बड़े प्याले में निकाल लीजिये
  7. मिश्रण में नमक और हरा धनिया डाल कर मिक्स कर लीजिए
  8. मिश्रण न ज्यादा पतला और न ज्यादा गाढ़ा होना चाहिए एकदम सही कंसिस्टेंसी में रहे

वैकल्पिक : मूंग दाल और चावल डोसा की आलू भाजी रेसिपी

  1. गैस पर धीमी आंच पर कढ़ाई रखें, उसमें 2 छोटी चम्मच तेल डालें और तेल को गरम होने दें |
  2. छोटी चम्मच सरसों के दाने, कुछ करी पत्ते अगर हे तो ,3 – 4 लाल साबुत मिर्च,1 बारीक कटा हुआ प्याज, 2 से 3 हरी मिर्च बारीक कटा हुआ (स्वाद के अनुसार), नमक (स्वाद के अनुसार ) इन सब को भुनने दें जब तक गुलाबी नहीं हो जाता मसाला |
  3. इस मसाले में ½ छोटी चम्मच हल्दी डालकर 1-2 मिनट भुनने दें
  4. उसके बाद हाथों से तोड़े हुए 4 से 5 उबले हुए आलू डालकर, इस मिक्सचर को 4 से 5 मिनट धीमी आंच पर भुनने दें | मिक्सचर में थोड़ी बारीक कटी हुई धनियाँ डालकर मिक्स कर दें अब आपका मसाला डोसा की आलू भुजिया तैयार |

डोसा रेसिपी:

  1. गैस को तेज जलाएं और तवा रखें
  2. तवे पर ऑयल और पानी के कुछ छींटे मारे और साफ कपड़े से पोंछ ले जिससे दोसा तवा पर चिपके ना
  3. अब आग को धीमा कर बैटर को तवे पर डाले और कटोरी से घुमाएं
  4. दोसे पर हल्का सा तेल डाल लें, जिससे अच्छे से सीख जाए और तवे पर चिपके ना|
  5. धोसे को अच्छे से सेकें, जब तक लाल ना हो जाए, (वैकल्पिक) फिर उसके ऊपर आलू भाजी डाल सकते हो
  6. सांभर के साथ डोसे का बेस्ट कॉम्बिनेशन होता है। सांभर और नारियल की चटनी के साथ नाश्ते या खाने या डिनर में परोसें

सांभर बनाने के लिए विधि – देखें

नारियल की चटनी बनाने के लिए विधि – देखें

PDF डाउनलोड रेसिपी – (Chane ki dal or chawal ka dosa Kaise Banta Hai In Hindi)

डोसा बनाने लिए कुछ नुस्खे / सुझाव – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Vidhi In Hindi)

  • आप चाहे तो डोसा सेक ले और आलू के मसले को अलग से परोस दे
  • मैं एकदम पतले दोसे फैलाता हूँ और उसे एक ही साइड से सेकता हूँ लेकिन अगर आप चाहे तो दोनों तरफ से सेक सकते हैं, बैटर बनाते वक्त बासमती या बारीक़ चावल ना ले, बैटर ज्यादा गाढ़ा ना हो
  • जब भी दूसरा ढोसा बनायंगे तवे पर केवल पानी के छिट्टे मारेंगे 
  • ध्यान रहे कि चावल को पीसने के लिए उड़द की दाल तुलना में कम पानी की आवश्यकता होती है
  • बैटर बनाने के लिए गर्मी में 11 से 12 घंटे, सर्दियों में 23 से 24 घंटे दाल और चावल के पेस्ट को मौसम के अनुसार ढक कर रख दें
  • दूसरा डोसा फैलाने से पहले तवे पर थोड़ा सा पानी का छींटा मारे और किसी कपड़े या टिशू पेपर से पानी पोंछ लें। इसके बाद ही दूसरा डोसा फैलाएं।
  • डोसा फैलाते समय आंच को धीमा रखें।
  • छिलके वाली मूंग दाल की जगह धुली मूंग दाल भी ली जा सकती है.
  • दोसे का बैटर तवे पर फैलाते समय तवा हल्का गरम होना चाहिए ज्यादा गरम तवा होने पर दोसा चिपक जाएगा और फैलेगा नहीं.

डोसा को तवे से चिपकने से रोकने के लिए कुछ पॉइंट है : (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Vidhi In Hindi)

  1. पहला डोसा बनाने से पहले तवे पर अच्छी से तेल लगा ले
  2. ध्यान रहे की घोल फैलाने से पहले तवा अच्छे से गर्म है | तवा पर्याप्त गर्म है या नहीं उसकी जांच करने के लिए, गरम तवे की सतह पर पानी की कुछ बूंदे छिड़कें और अगर पानी कुछ ही सेकेंड के भीतर सूख जाता है तो  तवा तैयार है |
  3. प्रत्येक डोसा बनाने से पहले साफ़ गीले कपड़े से तवे को साफ कर ले, यह दोसा को तवे से चिपकने से रोकने के लिए जरूरी है | फर्मेंट किया हुआ डोसा का घोल 3 से 4 दिनों के लिए फ्रिज में रखा जा सकता है |
  4. अगर आप फ्रीज में रखे घोल का इस्तेमाल कर रहे हैं तो इसे डोसा बनाने के 30 मिनट पहले फ्रीज से बाहर निकाल लें |

निष्कर्ष – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Vidhi In Hindi)

मूंग की दाल और चावल का डोसा न केवल स्वादिष्ट होते हैं बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करते हैं। ये डोसा आपके आहार में प्रोटीन, फाइबर और आवश्यक खनिजों को शामिल करने का एक पौष्टिक तरीका है। इसे बनाकर देखें और हमे कमेंट करें, हम आशा करते हे की आपको हमारा लेख अच्छा लगा होगा| कृपया हमें कमेंट में बताइये की आपको डोसा केसा लगा|

FAQs – (Moong Dal Or Chawal Ka Dosa Vidhi In Hindi)

मूंग की दाल में कैल्शियम कितना होता है?

पीली मूंग की दाल ये सब प्रदान करती है। लगभग ¼ कप 12.2 ग्राम प्रोटीन, 37.5 मिलीग्राम कैल्शियम और 1.95 मिलीग्राम आयरन प्रदान करने के लिए पर्याप्त है।

क्या उबला हुआ मूंग सेहत के लिए अच्छा होता है?

मूंग की फलियां पोषक तत्वों और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती हैं, जो स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकती हैं ।
वे हीट स्ट्रोक से बचा सकते हैं, पाचन स्वास्थ्य में सहायता कर सकते हैं, वजन घटाने को बढ़ावा दे सकते हैं और “खराब” एलडीएल कोलेस्ट्रॉल, रक्तचाप और रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकते हैं।

मूंग कब नहीं खाना चाहिए?

यदि आप शुगर, ब्लड प्रेशर या यूरिक एसिड से जुड़ी समस्या से पीड़ित हैं, तो मूंग दाल खाने से बचें।

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a comment